Friday, October 16, 2009

संघी विचारधारा वालों को जगह नहीं

रांची। कांग्रेस महासचिव और सांसद राहुल गांधी ने कहा कि पार्टी में आरएसएस की विचारधारा के लोगों के लिए कोई जगह नहीं है। गांधी ने अपने झारखंड दौरे के अंतिम दिन डाल्टनगंज में युवा कार्यकर्ता सम्मेलन में युवाओं को देश की राजनीति में आगे आने का न्यौता दिया।
उन्होंने कहा कि कांग्रेस में अब मनोनयन प्रक्रिया नहीं होगी और जो कार्यकर्ता जैसा काम करेंगे उसे वैसा ही पद दिया जाएगा। अब पंचायत स्तर की कमेटी भी उसी क्षेत्र के युवा खुद तैयार करेंगे और उन पर जिला कमेटी का कोई दबाव नहीं होगा। गांधी ने कहा कि युवा कांग्रेस की सदस्यता के लिए तीन योग्यताएं अनिवार्य होंगी। इसके तहत कोई आपराधिक इतिहास न हो, कांग्रेस विचारधारा हो एवं आयु 35 के अंदर होनी चाहिए।

1 comment:

पी.सी.गोदियाल said...

झूठ बोल रहे है भैया, सरासर !
अगर ऐसी ही बात है तो अभी तेरह तारीख को मुंबई में मानिक राव कोकते, विनायक निम्हान और राजेंत्द्र राउत को क्यों कोंग्रेस में जगह दी गई, और संजय निरुपम, नारायण राने वाघेला का बच्क्ग्रौंद क्या है, बहिया नहीं जानते क्या ? पार्टी बदल लेने से विचारधारा थोड़े ही बदल जाती है ! निष्कर्ष यह है कि भैया भी राजनैतिक रोटियां सेक रहे है !